ALL social education poem OLD miscellaneous Muzaffarnagar UP National interview Himachal
अगस्त क्रांति दिवस पर राष्ट्रीय साहित्य सम्मेलन आयोजित
August 11, 2020 • Havlesh Kumar Patel • miscellaneous
डॉ शम्भू पंवार चिड़ावा। अगस्त क्रांति दिवस पर आदर्श समाज समिति इंडिया सूरजगढ़ के तत्वाधान में ऑनलाइन राष्ट्रीय साहित्य सम्मेलन का आयोजन किया गया। साहित्य सम्मेलन की अध्यक्षता एडवोकेट हजारीलाल सुनियां ने की। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि संभागीय आयुक्त भरतपुर पी सी बेरवाल, अति विशिष्ट अतिथि डॉ मेघा प्रवीण एडिशनल निदेशक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय भारत सरकार, डॉक्टर इंद्राज सिंह एडिशनल डायरेक्टर राजस्थान सरकार एवं विशिष्ट अतिथि के रूप में रेनू शब्द मुखर स्टेट कोऑर्डिनेटर संपर्क संस्थान, वरिष्ठ साहित्यकार हिमाद्री वर्मा, डॉ. निशा माथुर ,सामाजिक कार्यकर्ता एवं वरिष्ठ पत्रकार डॉ. शंभू पंवार, समाजसेवी गोपाल शर्मा रहे।
सम्मेलन में देश के विभिन्न प्रांतों से कवि, लेखक,शायर, कवयित्री, पत्रकार, और साहित्यकारों ने भाग लिया। साहित्यकारों ने देश के शहीदों, क्रांतिकारियों और स्वतंत्रता सेनानियों के संघर्ष और बलिदान को याद करते हुए देश भक्ति की रचनाओ के जरिये काव्यांजलि अर्पित की।
लेखिका व कवयित्री अंशुपाल "अमृत" ने देश प्रेम पर रचना सुनाई-
मेरा दिल मेरी जान मेरा इश्क है,
मेरा मुल्क हिंदुस्तान मेरा इश्क है। ने काफी दाद बटोरी।
ख्यातिनाम गीतकार रजनीश गोयल दिल्ली ने कहा-
भारत देश हमारा,लगता है सबसे प्यारा।
शायर महेंद्र मौसम ने कहा-
यहां दाने -दाने के लाले पड़े है
वहां घोटाले पे घोटाले पड़े है।
सम्मेलन में झुंझुनू राजस्थान से कवयित्री सीमा लोहिया, नीलम मुकेश वर्मा व अशोक जोरासिया, अमरोहा उत्तर प्रदेश से मुजाहिद चौधरी, अलीगढ़ से अर्चना फौजदार, छत्तीसगढ़ से संघमित्रा "राएगुरु", शशिकला कठोलिया, हरियाणा से डॉ. बबीता वर्मा, संदीप स्वामी शास्त्री, जयपुर से डॉ. सुमन दहिया,शोभा गोयल, सूर्या मौर्या, कंचन शुक्ला, कल्पना गोयल, प्रशंसा श्रीवास्तव, रजनी बेदी, भानु भारद्वाज राजस्थानी, शशि पाठक, अशोक राय वत्स, पीलीबंगा से भावना विशाल, नैनीताल उत्तराखंड से अमृता पांडे, प्रयागराज रेनू मिश्रा, रांची झारखंड से संगीता सहाय, गाजियाबाद से रेनुका अरोरा, दिल्ली से कंचन गुप्ता, सरला सिंह स्निग्धा, चंद्रमणि मणिका, रजनीश गोयल, बागपत से राहुल धामा, बिहार से डॉ. पुष्पा प्रसाद गुड़िया कुमारी, सुलेखा सुमन, ज्योति कुमारी, रूपेश कुमार, अजमेर से सुनीता जैन,बाड़मेर से नीलम जैन, रींगस से स्नेहलता पारीक, जबलपुर से शायर महेंद्र मौसम, अलीगढ़ से धर्मवीर शर्मा, हाथरस यूपी से अतुल पाठक धैर्य, नीमच मध्य प्रदेश से अख्तर अली शाह, प्रतापगढ़ आशुतोष तिवारी, सीकर से मान कँवर"मैना", जौनपुर यूपी से शिवानी शुक्ला श्रद्धा, रायगढ़ से उमा शंकर पांडे, उत्तर प्रदेश से रेनू वर्मा 'रेणु', अलका अस्थाना, निशा सिंह "नवल", नीरज कुमार तिवारी, स्वधा रवींद्र उत्कर्षिता, जम्मू और कश्मीर से वरुण "वीर", व अनु अत्री "याद"। हैदराबाद से सिंधूर वरकुर व सुषमा सिंह, उत्तराखंड से किरन पुरोहित आदि साहित्यकारों ने अपनी एक से बढ़कर एक रचना की प्रस्तुति देकर कार्यक्रम के चार चांद लगा दिये।
सम्मेलन का संचालन कवयित्री अंशुपाल व एडवोकेट अनुजा मिश्रा ने संयुक्त रूप से किया।