ALL social education poem OLD miscellaneous Muzaffarnagar UP National interview Himachal
अखिल भारतीय कूर्मि क्षत्रिय महासभा ने किया किसानों के मुकदमा वापसी मार्च की शुरुआत का समर्थन
August 15, 2020 • Havlesh Kumar Patel • UP
शि.वा.ब्यूरो, प्रयागराज। आज 15 अगस्त 2020 को किसानों के हिट में आयोजित आंदोलन को अखिल भारतीय कूर्मि क्षत्रिय महासभा की ओर से किसानों के मुकदमा वापसी मार्च की शुरुआत का समर्थन किया गया। आज किसान- नौजवान मोर्चा ने किसानों- नौजवानों के खिलाफ प्रदेश में दर्ज मुदकमे वापसी के लिए पद मार्च शुरू कर दिया।
बता दें कि कचरी जिला प्रयागराज उत्तर प्रदेश का वो गाँव है, जहाँ के दो दर्जन से अधिक लोग परिवार समेत जेल भेजे गए थे। एक निजी कम्पनी के लिए 2007 में भूमि अधिगृहन का काम शुरू हुआ था और इसमें मनमानी के खिलाफ दो दर्जन गांवों के किसान सड़क पर आए थे। पुलिस ने 42 नामजद, 500 अज्ञात लोगों पर 2012 में fir कराई थी। राज बहादुर पटेल, उनकी पत्नी रीता पटेल, बेटे, बेटी, भाई गाँव के रामचन्द्र पटेल, रविकांत पटेल, जगत बहाुदर पटेल, प्रेम कुमार पटेल, रीता देवी पटेल, वीरेन्द्र पटेल, अशोक शर्मा, भीमसेन नाउ, सुशील पटेल, मस्तराम पटेल, संतोष पटेल,शिव कुमार, अशोक कुमार पटेल, रामदेव पटेल, रविकान्त पटेल, ब्रजेश चौधरी, राजेश कुमार , हजारीलाल पटेल, राजेन्द्र पटेल, समीर यादव, राम प्रसाद प्रजापति, रविकान्त पटेल, समरजीत पटेल, शिव कुमार , धर्मराज पटेल, मौजीलाल, विनय कुमार, राजन, बैजनाथ, श्याम बाबू, रामचन्द्र पटेल, अमित पटेल, श्यामलाल मानिकचन्द, शिवलाल, अखिलेश कुमार, राजेश पांडे, बिजली पटेल,  भुवर पटेल, धीरज पटेल, धर्मा देवी पटेल, देवी शंकर, शशि को जेल भेज दिया गया था। आज मोर्चा ने इन सभी जेल यात्रियों का सम्मान किया। किसानों नौजवानों के मुकदमे वापसी के लिए रास्ट्रीय स्तर पर संघर्ष का संकल्प लिया। पुलिस की गोली स जख्मी हुए बच्चे रितेश का हाल चाल लिया। आंदोलन में शहीद हुए गुलाब विश्वकर्मा और हरिश्चन्द्र पटेल के बेटे अंकित शहादत का सम्मान किया। गांधी, जेपी, विनोबा और सरदार पटेल को याद करते हुए ने गाँव से गाँव की सीमा तक मुकादमा वापसी मार्च किया। गाँव की सीमा पर इसे स्थगित किया गया। मोर्चा के संयोजक ने बताया कि यह मार्च स्थगन इसलिए किया गया है कि अन्य गांवों में भी ऐसे मार्च किये जाएंगे। यह सरकार के लिए चेतावनी है। अगर मुकदमे वापसी नहीं शुरू हुई तो यूपी के गांवों की सीमा पर स्थगित किए गए तो ये मार्च लखनऊ के लिए कूच कर देंगे। इसके मौके पर पूरे देश के किसानों की लड़ाई के लिए साथ देने का संकल्प लिया गया। मोर्चा और अन्य किसान संगठनों के आहान पर फेसबुक के जरिए किसानों के नौजवानों के हित में संकल्प लिया गया। 
स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने, खेती को उधोग का दर्ज देने, किसान आयोग बनाने की मांग की गई। इस मौके पर मोर्चा की मांग को अखिल भारतीय कूर्मि क्षत्रिय महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष सर्वेश कटियार, राष्ट्रीय अध्यक्ष महिला प्रेम लता राही, प्रदेश अध्यक्ष बाल कुमार पटेल, प्रदेश अध्यक्ष महिला दीपमाला पटेल व केंद्रीय टीम तथा प्रदेश टीम के आदेशानुसार मीडिया प्रभारी प्रभाकर सिंह पटेल व प्रदेश सचिव महिला अनीता देवी समेत अन्य लोग सक्रिय रहे और किसानों की आवाज की बुलंद किया गया।