ALL social education poem OLD miscellaneous Muzaffarnagar UP National interview Himachal
DM सेल्वा कुमारी जे ने उघमियों व प्रदूषण विभाग के अफ़सरों संग की बैठक, कोविड कंट्रोल रूम का निरीक्षण भी किया
July 22, 2020 • Havlesh Kumar Patel • Muzaffarnagar

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे ने आज जनपद में हो रहे जल प्रदूषण एवं वायु प्रदूषण के दृष्टिगत प्रदूषण विभाग के अधिकारियों व उघमियों के साथ प्रदूषण की रोकथाम के सम्बन्ध में बैठक करते हुए कहा कि एनसीआर में होने के कारण जनपद मुजफ्फरनगर पर्यावरण प्रदूषण हेतु सवंेदनशील जनपद है। जनपद में पेपर मिल, चीनी मिल सहित विभिन्न औद्योगिक ईकाईयां स्थापित हैं, जिनसे समय-समय पर अपशिष्ट के रूप में जल तथा वायु का प्रदूषण होता है। प्रदूषण की इस समस्या के निवारण हेतु प्रभावी कार्यवाही किया जाना आवश्यक है। उन्होने कहा कि पानी, हवा व जल का प्रदूषण मुक्त होना आवश्यक है। प्रदूषण के कारण काफी प्रकृति व मानव को काफी नुकसान हो रहा हैं। लोग गम्भीर बीमारियों से ग्रसित हो रहे है।

उन्होने कहा कि उघमियों केा इस प्रदूषण पर रोक लगानी होगी। उन्होने कहा कि जल प्रदूषण के कारण कई गांवो में पानी दूषित भी हुआ है। उन्होने कहा कि उघमी अपने शहर को प्रदूषण मुक्त बनाने मे सहयोग दे। यह शहर हम सबका है इसलिये हमारी जिम्मेदारी और अधिक बढ जाती है कि हम अपनी पीढी को क्या दे रहे है। हमे प्रदूषण से होने वाले नुकसान को समझना होगा और इसे खत्म करना होगा। जिलाधिकारी ने कहा कि उघमियों द्वारा प्रदूषण के दृष्टिगत जो तथ्य उपलब्ध कराये गये है उसी के अनुरूप उधोगो का संचालन करे। उन्होने कहा कि अन्तिम पायदान के व्यक्ति की स्वास्थ्य सुविधाओं व स्वास्थ्य के बारे में अवश्य सोचें कि हम आगे आने वाली पीढी को क्या देकर जायेगे। उन्होने कहा कि आगे की पीढी को स्वस्थ्य वातावरण दे। उन्होने कहा कि अगर सुधार नही हुआ तो सम्बन्धित के विरूद्व कडी कार्यवाही प्रस्तावित कर दी जायेगी


बैठक के दौरान प्रदूषण विभाग के क्षेत्रीय अधिकारी ने बताया कि प्रदूषण फैलाने वाले विभिन्न अवस्थानों के विरूद्ध दि वाटर (प्रिवेंशन एण्ड कन्ट्रोल ऑफ़ पाॅल्यूशन) एक्ट 1974 एवं दि एयर (प्रिवेंशन एण्ड कन्ट्रोल ऑफ पाॅल्यूशन) एक्ट 1981 के अन्तर्गत उ0प्र0 प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा परिवाद की कार्यवाही की जाती है। इस अवसर पर उघमियों ने जिलाधिकारी को आश्वस्त किया कि अगर कही कोई कमी है तो उसे दूर किया जायेगा। उन्होने कहा कि प्रदूषण विभाग एक एजेंसी नामित कर दे जिससे कि फैक्ट्रियों से निकलने वाले धुए की जांच हो सके। इसके पूर्व आज जिलाधिकारी ने एनआईसी में मा0 मुख्यमंत्री जी द्वारा किये गये भू जल सप्ताह समापन कार्यक्रम में वीसी के माध्यम से प्रतिभाग भी किया। इसके पश्चात जिलाधिकारी ने कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत कलैक्ट्रेट में बनाये गये कोविड कंट्रोल रूम का भी निरीक्षण किया।

निरीक्षण के दौरान उन्होने रजिस्टरों में अकिंत किये जा रह विवरण का गहनता से निरीक्षण किया तथा अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश भी दिये। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी आलोक यादव, अपर जिलाधिकारी वि0/रा0 आलोक यादव, नगर मजिस्ट्रेट अतुल कुमार, क्षेत्रीय प्रदूषण अधिकारी सहित काफी संख्या में उघमी व प्रदूषण विभाग के अघिकारी उपस्थित थे।