ALL social education poem OLD miscellaneous Muzaffarnagar UP National interview Himachal
ईश्वर की सबसे प्यारी सौग़ात है मेरी प्यारी बेटी लिली ( डॉटर डे (27 सितम्बर पर) विशेष)
September 26, 2020 • Havlesh Kumar Patel • miscellaneous
डॉक्टर मिली भाटिया, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।
 
कौन हूँ क्या नाम है मेरा, मैं परियों की शहज़ादी, मैं आसमान से आई हूँ......
मैंने कहा लिली से हँसो तो वो खिलखिलाके हंस दी....
बिटिया लिली! हैपी डॉटर डे
तुम मेरी ज़िंदगी हो, मेरा अंश हो, मेरी सौग़ात हो तुम। 6 एंड हॉफ़ साल की मेरी बिटिया तुम इतनी समझदार हो कि हैरानी होती है मुझे। लिली के फूल की तरह हो तुम, तुमने मुझे माँ बनने का सुख प्राप्त कराया है। पता है लिली! मैं नानी को 11 साल बाद मिली थी, बहुत मन्नतों से, बहुत ट्रीटमेंट के बाद। तुम्हारी तरह मैं भी इकलोती संतान थी अपने माता-पिता की। तुम्हारी नानी जब मैं 17 साल की थी, तभी मुझे छोड़कर चली गई थी ईश्वर के घर। तुम हुई, तब बहुत कमी महसूस होती थी उनकी।तुम्हारी नानी-नाना और मेरी दादी ने बहुत प्यार दिया मुझे, तभी ईश्वर से मैंने अपने लिए बिटिया माँगी और मेरी विश पूरी हुई। टचवुड! जब तुम हुई, तब तुम्हारी पूनम मासी (मेरी बहुत प्यारी सहेली) ने कहा था कि मिली अब तेरी ज़िंदगी की सारी कमी पूरी हो गई। तेरी बिटिया तेरी माँ की कमी पूरी करेगी। हो भी यही रहा है।
तुम कहती हो ना, मम्मी आप सब पर आर्टिकल लिखती हो, मुझपर नहीं। बाक़ी सबके लिए शब्द मिल जाते हैं तुम्हारी मम्मी को, पर अपनी ज़िंदगी की सबसे प्यारी इंसान के लिए मम्मी के पास उतने प्यारे-प्यारे शब्द नहीं हैं ना, जितनी प्यारी उनकी बिटिया है। पता है लिली! नानी से 17 साल बहुत प्यार मिला। बचपन में मैं उनसे बहुत लड़ती थी, पर धीरे-धीरे वो मेरी बेस्ट फ़्रेंड बन गई थी। मैं अपने स्कूल की एक-एक बात उन्हें घर आकर बताती थी। तुम भी मुझे बिना झिझक सारी बातें बताना और हमेशा झाँसी की रानी बनकर रहना। डान्स, म्यूज़िक, आये न आये तुम्हें मार्शल आर्ट (कराटे) जरूर सीखना तुम। तुम मेरी स्ट्रोंग बिटिया हो। एक बात और तुम वर्ल्ड की बेस्ट बेटी हो और वर्ल्ड की बेस्ट आर्टिस्ट। हर ड्रॉइंग कमपीटीशन में फ़र्स्ट आती हो। मुझसे भी अच्छी ड्रॉइंग बनती हो। अपने मम्मी-पापा और नाना की सबसे ख़ास हो। मेरी आइज़ में केराटोकोनस का ऑपरेशन हुआ, मेरे हैंड्ज़ का फ़्रैक्चर हुआ, तब तुमने मेरी बहुत देखभाल की। जैसे तुम मेरी बेटी नही, मेरी माँ हो। तुम खूब नाम करोगी हमारा, हमें पूरा विश्वास है। तुम हमेशा लिली के फूल की तरह खिली रहो। डॉक्टर मिली की लिली तुम जियो हज़ारों साल, स्वस्थ रहो, सुरक्षित रखो। 
तुम्हारी मम्मी डॉक्टर मिली
रावतभाटा-राजस्थान