ALL social education poem OLD miscellaneous Muzaffarnagar UP National interview Himachal
केवीएस ने 12वीं की परीक्षा में दिया शानदार 98.62 प्रतिशत रिजल्ट, केरल की अलीशा व अभिजीत को मिले 500 में से 499 अंक
July 13, 2020 • Havlesh Kumar Patel • National


शि.वा.ब्यूरो, नई दिल्ली। केन्द्रीय विद्यालय संगठन (केवीएस) ने इस बार फिर 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं में बेहतर प्रदर्शन करते हुए 98.62 प्रतिशत रिजल्ट दिया है। विगत वर्ष केवीएस का रिजल्ट 98.54 प्रतिशत रहा था। इस बार केरल के कदावन्थ्रा कोच्ची से वाणिज्य वर्ग में अलीशा पी शाजी ने 500 में से 499 यानी 99.80 प्रतिशत अंक प्राप्त किये हैं। केरल के ही कांजीकोडे के अभिजीत टीआर ने भी विज्ञान वर्ग में 500 में से 499 अंक प्राप्त किये हैं। इस बार विभिन्न संस्थाओं में केवीएस रिजल्ट के मामले में दूसरे स्थान पर रहा है।
बता दें कि इस बार 12वीं की परीक्षा में कुल 1262987 परीक्षार्थियों ने पंजीकरण कराया था, जिनमें से 1245609 छात्र-छात्राएं परीक्षा में सम्मिलित हुए थे। परीक्षा में सम्मिलित केवीएस के कुल 68099 परीक्षार्थियों में से 67161 परीक्षार्थी पास हुए हैं। यानी केवीएस का सफलता प्रतिशत इस वर्ष 98.62 रहा है। इस बार केवीएस में 34646 लड़के व 32515 लड़कियों ने परीक्षा में बाजी मारी है। केवीएस प्रशासन के अनुसार वर्ष 2015 में सीबीएसई 12वीं का रिजल्ट 82 प्रतिशत और केवीएस का रिजल्ट 94.75 प्रतिशत रहा था। 2016 में सीबीएसई 12वीं का रिजल्ट 83 प्रतिशत और केवीएस का रिजल्ट 96.46 प्रतिशत, 2017 में सीबीएसई 12वीं का रिजल्ट 82.62 प्रतिशत और केवीएस का रिजल्ट 95.86 प्रतिशत, 2018 में सीबीएसई 12वीं का रिजल्ट 83.01 प्रतिशत और केवीएस का रिजल्ट 97.78 प्रतिशत, 2019 यानी विगत वर्ष सीबीएसई 12वीं का रिजल्ट 83.40 प्रतिशत और केवीएस का रिजल्ट 98.54 प्रतिशत तथा इस वर्ष सीबीएसई 12वीं का रिजल्ट 88.78 प्रतिशत और केवीएस का रिजल्ट 98.62 प्रतिशत रहा है।
विभिन्न संस्थाओं की तुलना में केन्द्रीय विद्यालय संगठन रिजल्ट के मामले में दूसरे स्थान पर रहा है। इस बार एनवीएस 98.70 प्रतिशत रिजल्ट लाकर प्रथम स्थान पर रहा है। केवीएस 98.62 प्रतिशत अंक लोकर दूसरे, सीटीएसए 98.23 प्रतिशत अंक लाकर तीसरे, सरकारी संस्थान 94.94 प्रतिशत अंक लाकर चैथे, सरकारी सहायता प्राप्त संस्थान 91.56 प्रतिशत अंक लाकर पांचवे तथा इंडीपैंडेंट स्कूल 88.22 प्रतिशत अंक लाकर सबसे नीचले पायदान पर रहे हैं।