ALL social education poem OLD miscellaneous Muzaffarnagar UP National interview Himachal
नोडल अधिकारी अनीता सी. मेश्राम ने किया सफाई व्यवस्था का निरीक्षण, स्थानीय नागरिकों लोंगो से किया संवाद
July 10, 2020 • Havlesh Kumar Patel • Muzaffarnagar

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। शासन द्वारा नामित नोडल अधिकारी/मण्डलायुक्त मेरठ अनीता सी. मेश्राम ने आज जिला पंचायत सभागार मे संचारी रोग नियंत्रण अभियान,स्वच्छता, पेयजल व्यवस्था बाढ नियंत्रण के सम्बन्ध में अधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होने कहा कि 1 जुलाई से 31 जुलाई तक संचारी रोग नियंत्रण अभियान एवं 16 जुलाई से 31 जुलाई तक दस्तक अभियान चलाया जायेगा। उन्होने गत वर्ष की भांति इस वर्ष भी संचारी रोगो की रोकथाम के लिए प्रभावी उपाय अपनाते हुए व्यापक अभियान चलाया जाये। संचारी रोग अभियान की समीक्षा करते हुए डा0 अलका ने नोडल अधिकारी को बताया कि संचारी रोग अभियान का यह दूसरा चरण प्रारम्भ किया गया है। उन्होने बताया कि वैक्टर जनित रोगो को कमी आई है। उन्होने बताया कि 2018 में 199 मरीज मलेरिया मिले थे, 2019 में संख्या घटकर 100 रह गई थी। उनहोने बताया अभियान के अन्तर्गत अभी तक 7189 खून की जांच की जा चुकी है। उन्होने बताया कि 2018 में 7 मरीज डेंगू के मिले थे। उन्होने बताया कि जे ई टीकाकरण पर विशेष अभियान चलाया जा रहा है।


डीपीआरओ ने अवगत कराया कि इस अभियान के अन्तर्गत ग्रामों में साफ सफाई, हैण्डपम्प रिबोर कराये गये है। 377 गांवों में झाडियां काटी गई है, गांवों में फाॅगिंग व सैनेटाइजर का छिडकाव कराया जा रहा है। गांव की नालियों की सफाई आदि कार्य कराये जा रहे है। उन्होने बताया कि 03 दिन विशेष अभियान के अन्तर्गत कार्य कराया जायेगा। मण्डलायुक्त ने गांवों में साॅलिड वेस्ट मेनेजमैंट व लिक्विड वेस्ट की भी समीक्षा की। उन्होने निर्देश दिये कि गांवों में भी कूडे का डोर टू डोर कलैक्शन किया जाये। उन्होने कहा कि कूडे का सैगरिगेशन किया जाये। उन्होने गांवों में सफाई कर्मियों की तैनाती, गांवों में सोख्ता गढढे बनाये जाने के निर्देश दिये। उन्होने अधिशासी अधिकारियों को निर्देश दिये की वार्डो में नियमित सफाई कराई जाये, कूडे का डोर टू डोर कलैक्शन किया जाये जिसमें गीला कूडा अलग व सूखा कूडा अलग होना चाहिए। उन्होने कहा कि वार्डो में फाॅगिग व सैनेटाईजर का छिडकाव कराया जाये। उनहोने जल निगम की समीक्षा करते हुए निर्देश दिये कि एसटीपी प्लाॅन्ट पूर्ण क्षमता के साथ चलाया जाये। गन्दा पानी नदियों में नही जाना चाहिए। नालो आदि की सफाई कराई जाये। पेयजल परियोजना का कार्य शीघ्र पूर्ण कराया जाये।


मनरेगा व स्वंय सहायता समूह के बारे में समीक्षा करते हुए पीडी डीआरडीए ने बताया कि जनपद में 96 तालाबों का निर्माण कार्य चल रहा है। मनरेगा के अन्तर्गत 10757 श्रमिक कार्य कर रहे है। स्वंय सहायता समूहों द्वारा माॅस्क, सैनेटाईजर का निर्माण किया गया है। माॅस्क व सैनेटाईजर की बिक्री से स्वंय सहायता समूह आर्थिक रूप से सुदृढ हुए है। इसके पश्चात उन्होन बाढ नियंत्रण व उसकी रोकथाम के सम्बन्ध में समीक्षा करते हुए निर्देश दिये कि बाढ चैकियों की स्थापना की जाये और अभी से सभी तैयारियां पूर्ण कर ली जाये ताकि किसी भी स्थिति में तत्काल सहायता उपलब्ध कराई जा सके। उनहोने कहा कि गत वर्षो के आधार पर भी अध्यन व निरीक्षण कर लिया जाये। मवेशियों के लिए बाढ आने पर चारे भूसे आदि की व्यवस्था भी देख ली जाये।


उन्होने कहा कि संचारी रोगो की रोकथाम के लिए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग, नगर विकास विभाग, पंचायती राज विभाग/ग्राम्य विकास विभाग, पशुपालन विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग, शिक्षा विभाग, चिकित्सा शिक्षा विभाग, दिव्यांगजन कल्याण विभाग/समाज कल्याण विभाग, कृषि एवं सिंचाई विभाग एवं सूचना विभाग के बीच आपसी समन्वय स्थापित करते हुए कार्यवाही की जाये। उन्होने कहा कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग संचारी रोगों तथा दिमागी बुखार के केस की निगरागी(सर्विलेस), रोगियों के उपचार की व्यवस्था,रोगियों के निशुल्क परिवहन के लिए रोगी वाहन सेवा की व्यवस्था करे। उन्होने निर्देश दिये कि नगर विकास विभाग नगरीय क्षेत्रों में वातावरणाीय तथा व्यक्तिगत स्वच्छता के उपायों, खुले में शौच न करने, शुद्ध पेयजल के प्रयोग तथा मच्छरों की रोकथाम के लिए जागरूकता अभियान संचालित किये जाये। पंचायती राज विभाग/ग्राम्य विकास विभाग ग्राम स्तर पर साफ-सफाई, हाथ धोना, शौचालय की सफाई तथा घर से जल निकासी के लिए, शुद्ध पेयजल की व्यवस्था आदि की जाये। महिला एवं बाल विकास विभाग आंगनवाडी कार्यकत्रियों के द्वारा अपने क्षेत्र के समस्त कुपोषित तथा अति कुपोषित बच्चों की सूची बनाकर उनकों उचित पोषाहार उपलब्ध कराया जाये तथा आवश्यकता होने पर पोषण पुनर्वास केन्द्रो पर उपचार तथा पोषण पुनर्वास के लिए भेजा जाये। इस अभियान में कोविड-19 रोग के संक्रमण के दृष्टिग विशेष सावधानियां अपनाते हुए आवश्यक निर्देशों का अनुपालन किया जाये।


इसके पश्चात नोडल अधिकारी ने सफाई व्यवस्था के दृष्टिगत शहर के वार्ड 11 भरतिया काॅलोनी में जाकर सफाई व्यवस्था का स्थलीय निरीक्षण किया। उनहोन अधिकारियों को निर्देश दिये कि नियमित सफाई कराई जाये, फाॅगिंग, एन्टी लार्वा का छिडकाव किया जाये। उनहोने कहा कि पानी की निकासी की उचित व्यवस्था कराई जाये। इस अवसर पर मण्लायुक्त ने स्थानीय नागरिकों के संवाद स्थापित कर सफाई व्यवस्था के बारे में भी जानकारी प्राप्त की।
इस अवसर पर जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे, मुख्य विकास अधिकारी आलोक यादव, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 प्रवीण चोपडा, अपर जिलाधिकारी वि0/रा0, अपर जिलाधिकारी प्रशासन अमित सिह, सभी एसडीएम सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।