ALL social education poem OLD miscellaneous Muzaffarnagar UP National interview Himachal
प्रधानमंत्री मातृ  वंदना योजना के तहत पहली बार गर्भवती होने वाली महिलाओं को दिए जाते हैं तीन किश्तों में पांच हजार रूपये
August 17, 2020 • Havlesh Kumar Patel • Muzaffarnagar
शि.वा.ब्यूरो, शामली। कोरोना काल में प्रधानमंत्री मातृ  वंदना योजना वरदान साबित हुई है। कोरोना काल के दौरान कमजोर वर्ग के लोगों की आर्थिक स्थिति पर सीधे तौर पर फर्क पड़ा है, ऐसे में पहली बार गर्भवती होने वाली महिलाओं के लिए यह  योजना बेहद कारगर साबित हुई है। योजना की राशि मिलने से महिलाओं को खुद के साथ आने वाले नए मेहमान की देखभाल व खानपान में किसी तरह की दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ा ।  
प्रधानमंत्री मातृ  वंदना योजना के नोडल अधिकारी डॉ.सुशील कुमार ने बताया योजना शुरू होने से (जनवरी 2017) अब तक 22887 लाभार्थियों को योजना का लाभ मिल चुका है। लॉकडाउन के दौरान 1112लाभार्थियों को योजना का लाभ मिला। लॉकडाउन से पहले 21294 लाभार्थियों को लाभ मिल चुका था। प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के अंतर्गत पहली बार गर्भवती हुई महिला को तीन किश्तों में 5000 रुपये दिये जाते हैं, जो लाभार्थी के बैंक खाते में सीधे भेजे जाते हैं। कोरोना काल में लोगों की आय पर असर पड़ा है और अन्य प्रांतों से मजदूरों ने घर वापसी की, ऐसे में योजना का शत प्रतिशत लाभ पात्र गर्भवती को दिलाने के लिए सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के अधिकारियों व कर्मचारियों को निर्देशित किया गया था कि कोई भी प्रवासी पात्र लाभार्थी योजना से वंचित न रहे।
उन्होंने बताया योजना के तहत पहली बार मां बनने वाली महिलाओं को पंजीकरण कराने के साथ पहली किश्त के रूप में 1000 रुपये दिए जाते हैं। प्रसव पूर्व कम से कम एक जांच होने पर गर्भावस्था के छह माह बाद दूसरी किश्त के रूप में 2000 रुपये और बच्चे के जन्म का पंजीकरण होने और बच्चे के प्रथम चक्र का टीकाकरण पूर्ण होने पर तीसरी किश्त के रूप में 2000रुपये दिए जाते हैं।
सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर कार्यरत प्रभारी चिकित्साधिकारी को भी निर्देश दिए गए कि कोई भी लाभार्थी योजना से वंचित न रहे। इसके लिए गांव व वार्ड की आशा कार्यकर्ता, आशा संगिनी, एएनएम,बीसीपीएम/बीपीएम के माध्यम से फार्म भरा जाता है। लाभार्थियों को इस योजना का लाभ पाने के लिए मुख्य रूप से मातृ एवं शिशु सुरक्षा (एमसीपी) कार्ड, आधार कार्ड और खाते की पासबुक की फोटो कॉपी फार्म भरते समय जमा करनी होती है।शामली के कांधला ब्लाक की निवासी आराधना, सुमित्रा व शामली मुकेश ने कहा कि यह सरकार की बहुत अच्छी योजना है। हमें पहली किस्त के रूप में 1000 रुपये मिल चुके हैं, इस राशि से हमें बड़ी सुविधा हुई है। वहीं ऊन ब्लाक की निहारिका और कोमल ने भी इस योजना को बहुत ही लाभकारी बताया। उन्होंने बताया कि उनके खाते में में सीधे पहली और दूसरी किस्त के रुपये आ चुके हैं। इस तरह उन्हें अब तक 3000 रुपये मिल चुके हैं।