ALL social education poem OLD miscellaneous Muzaffarnagar UP National interview Himachal
श्रीराम काॅलेज में शैक्षिक संस्थानों में आतंरिक गुणवत्ता योजना का निष्पादन विषय पर आयोजित कार्यशाला का सातवां दिन, मीडिया प्रबंधन एवं पब्लिसिटी विषय पर पावर पाइंट प्रस्तुतिकरण प्रस्तुत किया
June 30, 2020 • Havlesh Kumar Patel • Muzaffarnagar

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। श्रीराम ग्रुप ऑफ काॅलिजेज में शैक्षिक संस्थानों में आतंरिक गुणवत्ता योजना का निष्पादन विषय पर दो सप्ताह तक चलने वाली ऑनलाईन कार्यशाला के 7वे दिन की कार्यशाला में मुख्य वक्ता एवं कार्यक्रम संयोजक के रूप पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग के विभागाध्यक्ष रवि गौतम ने मीडिया प्रबंधन एवं पब्लिसिटी विषय पर पावर पाइंट प्रस्तुतिकरण प्रस्तुत किया।  कार्यक्रम की अध्यक्षता श्रीराम गर्ल्स कालेज की अध्यक्ष आभा कुलश्रेष्ठ ने की । श्रीराम गर्ल्स कालेज के निदेशक डा0 मनोज धीमान ने फोटोग्राफी एवं विडियोग्राफी तथा श्रीराम गर्ल्स काॅलेज की डीन डा0 श्वेता राठी ने संस्थान में ड्रेस कोड एवं आई-डी कार्ड विषय पर उनके महत्व, उददेश्य एवं सुगम क्रियान्वयन एवं योजना को पावर पाइंट प्रस्तुतिकरण के माध्यम से विस्तार से समझाया। 


इस अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि हीरैंक बिजनेस स्कूल नोएडा की डीन डा0 प्रगति सैक्सेना उपस्थित रही। मीडिया प्रबंधन एवं पब्लिसिटी विषय पर विचार व्यक्त करते हुए डा0 प्रगति सैक्सेना ने किसी भी शैक्षिक संस्थान में बदलते दौर एवं प्रचार के तरीको की बात करते हुए डिजिटल मार्केटिंग के बढ़ते प्रभाव पर विशेष बल दिया। उन्होंने कहा कि आज के दौर में प्रचार एक चुनौती पूर्ण प्रक्रिया है, जिसके लिये शैक्षिक संस्थानों को अलग-अलग प्रचार तकनीकों का प्रयोग करना बेहद जरूरी है। वर्तमान दौर में सोशल मीडिया, इंटरनेट, मोबाइल ऐप, सर्च इंजन, आनलाईन बैनर के माध्यम से जहाॅं संस्थान की छवि को और भी सकारात्मक एवं प्रभावी बनाने में सहायक है वही टयूटर, लिंकडीन, यू-टूब, स्नैप चैट, फेस बुक के माध्यम से संस्थान की गतिविधियों एवं नीतियों को तेजी से प्रसारित एवं प्रचालित किया जाना सम्भव हो गया है। उन्होने कहा कि संस्थानों को अपने यहाॅं आधुनिक तकनीकों के माध्यम से अपनी उपलब्धियों नीतियों को बढाना चाहिये। उन्होंने कहा कि संस्थान की वेबसाइट एवं उसकी विशेष सामग्री आकर्षक एवं सूचनात्मक होनी चाहिये, जिससे शैक्षिक संस्थान के बारे में जानकारी प्राप्त करने का इच्छुक विद्यार्थी (लक्षित वर्ग) सुगमता से संस्थान को आनलाईन समझ सकें। उन्होंने कहा कि संस्थान की वेबसाइट, मोबाईल फैंडली और तकनीकी रूप से सशक्त होनी चाहिये जिससे विद्यार्थी को क्षेत्रीय एवं वैश्वीक स्तर पर संस्थान से जोडना सम्भव हो सकता है। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि डिजिटल माकेंटिंग के माध्यम से विभिन्न तकनीकों का प्रयोग करते हुये तात्कालिक प्रचार एवं तात्कालिक परिणाम सम्भव है। 


इस अवसर पर मीडिया प्रबंधन एवं पब्लिसिटी विषय पर पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग के विभागाध्यक्ष रवि गौतम ने  मीडिया प्रबंधन एवं पब्लिसिटी विषय पर पावर पाइंट प्रस्तुतीकरण के माध्यम से कहा कि मीडिया प्रबंधन एवं पब्लिसिटी किसी भी संस्थान के लिये एक महत्वपूर्ण विषय है तथा इसका उददेश्य तीन महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर केंद्रीत है। टू क्रिऐट द इमेज, टू मैनटेन द इमेज, टू सस्टेन द इमेज यानि संस्थान की साख को विकसित करना, संस्थान की छवि का प्रबंधन करना तथा संस्थान की छवि को बनाये रखना। साथ ही साथ उन्होंने कहा कि मीडिया एवं पब्लिसिटी किसी भी संस्थान की नीव को मजबूती प्रदान करने का सबसे महत्वपूर्ण पहलू है। नियोजित पब्लिसिटी एवं रणनितिक मीडिया प्रबंधन संस्थान की छवि को मजबूत बनाने में कारगर सिद्ध होते है। उन्होंने कहा कि शिक्षण संस्थानों की नियमित शैक्षिक गतिविधियों एवं विद्यार्थियों के हित में शिक्षण संस्थान द्वारा चलाये जा रहे प्रचार-प्रसार नियोजित, रचनात्मक एवं रणनीतिक पूर्ण रूप से शिक्षण संस्थान को सशक्त बना जन-जन में संस्थान के प्रति विश्वास एवं सम्मान स्थापित करता है। उन्होंने कहा कि शिक्षण संस्थान के विभागों को चाहिये कि संस्थान की उपलब्धियों से संस्थान के विद्यार्थियों को भी मौलिक रूप से जोडा जाये, जिससे विद्यार्थियों के मन में भी संस्थान के प्रति सम्मान एवं सकारात्मक छवि उत्पन्न हो एवं साथ ही साथ विद्यार्थियों को यह विश्वास रहे संस्थान में उनका भविष्य सुरक्षित है। जिससे संस्थान अपने कार्यक्षेत्र में सूरज की भाॅति निरन्तर अपनी ऊर्जा से समाज एवं राष्ट्र निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निर्वाह कर सके। 


श्रीराम गर्ल्स काॅलेज के गृह विज्ञान संकाय की डीन डा0 श्वेता राठी ने यूनिफार्म और आईडी कार्ड पब्लिसिटी विषय पर पर कहा कि अगर हम यूनिफार्म और आईडी कार्ड के उददेश्यों को लेकर बात करते है तो इसमें हमने एक ऐसी समिति का गठन किया है, जो शिक्षक और संस्थान के अन्य कर्मचारियों व विद्यार्थियों की यूनिफार्म का चयन एवं उसे समय पर तैयार माल में तैयार कराकर उपलब्ध कराने का उददेश्य है। साथ ही साथ कपडे की गुणवत्ता की जिम्मेदारी भी इसी समिति को सौपी गई है। श्रीराम काॅलेज को एक अलग पहचान दिलाना भी समिति का अहम लक्ष्य है। विद्यार्थियों को यूनिफार्म पहनाने की एक यह मंशा भी है ताकि विद्यार्थियों में वस्त्रों को लेकर कोई प्रतिस्पर्धा या हीन भावना उत्पन्न न होने पायें। बाहय विद्यार्थियों की महाविद्यालय में उपस्थिति ज्ञात करने एवं महाविद्यालय के प्रांगण में अनुशासन बनाये रखने में भी यूनिफार्म की एक मुख्य भूमिका है। अनुशासन को बनाये रखने के लिये सभी छात्र शिक्षकों एवं अन्य कर्मचारियों को आईडी कार्ड पहनने के लिये भी प्रेरित किया जाता है ताकि संस्थान की ओर से प्रत्येेक विद्यार्थी एवं कर्मचारी को एक पहचान प्रदान की जा सके तथा शिक्षकों द्वारा आदेश पालन होने से विद्यार्थियों को भी आई-कार्ड पहनने का प्रोत्साहन मिलता है जो उन्हें विद्यार्थी होने की अनुभूति कराता है। इस विषय पर पहली बार शिक्षकों एवं विद्यार्थियों व अन्य कर्मचारियों ने सभी ने यूनिफार्म को पहनकर एक नया प्रचलन विकसित किया ताकि अनुशासन बना रहे। 


श्रीराम गर्ल्स काॅलेज के निदेशक डा0 मनोज धीमान ने कहा कि इस समिति का उददेश्य संस्थान में होने वाली गतिविधियों से संबंधित फोटोग्राफी और विडियोग्राफी को सुनिश्चित करना तथा साथ ही कार्यक्रमों से संबंधित फोटो और विडियों संकलन कर उनकों भविष्य के लिये सहेज कर रखना है। उन्होंने कहा कि इस पूरी प्रक्रिया को सुगम बनाने के लिये ये बेहद जरूरी है कि इस समिति से जुडा हुआ संस्थान के अलग-अलग संकायों का सदस्य अपने संकाय में होने वाली गतिविधियों की फोटोग्राफी  एवं विडियोग्राफी कराकर फोटो को विभाग स्तर पर भी संरक्षित रखा जाये। 


    इस अवसर पर श्रीराम काॅलेज की प्राचार्य डा0 प्रेरणा मित्तल, श्रीराम काॅलेज निदेशक डा0 आदित्य गौतम, श्रीराम काॅलेज ऑफ फार्मेसी के निदेशक डा0 गिरेन्द्र गौतम, श्रीराम गर्ल्स काॅलेज के निदेशक डा0 मनोज धीमान, श्रीराम काॅलेज ऑफ पोलिटैक्निक निदेशक डा0 अश्वनी, श्रीराम काॅलेज ऑफ इंजीनियरिंग के निदेशक डा0 आलोक गुप्ता, श्रीराम काॅलेज ऑफ मैनेजमेंट के डीन पंकज शर्मा, डा0 अशफाक अली मैनेजमेंट डीन श्रीराम काॅलेज के एकेडिमिक डीन डा0 विनित शर्मा, कृषि विज्ञान की विभागाध्यक्ष डा0 बुशरा अकिल, प्रोफेसर नीतू सिंह, बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन के विभागाध्यक्ष विवेक त्यागी, वाणिज्य के विभागाध्यक्ष डा0 सौरभ मित्तल, बेसिक साइंस की विभागाध्यक्ष डा0 पूजा तोमर, बायोसाइंस के विभागाध्यक्ष डा0 सौरभ जैन आदि लगभग 100 लोग वेबिनार में उपस्थित रहे।